क्या होता है बिटकॉइन ? bitcoin hindi meaning?

bitcoin in hindi

इस लेख में आपको बिटकॉइन के बारे में जानकारी मिलेगी और आपको इस से सबंदित प्रश्नो के उत्तर भी मिलेंगे जिसमे की बिटकॉइन क्या होता हैं (what is bitcoin in hindi, bitcoin hindi meaning)? क्या बिटकॉइन सिक्योर है ? बिटकॉइन कहा से ख़रीदा जा सकता है ? एक बिटकॉइन की कीमत क्या होती है ? अगर आप इन सभी सवालो का जवाब जानना चाहते है तो इस लेख को पूरा पढ़े।

बिटकॉइन क्या है -bitcoin hindi meaning

दोस्तों जैसे इंडिया में रुपया चलता है और अमेरिका में डॉलर चलता है ऐसे ही इंटरनेट पर बिटकॉइन चलता है। अगर आज इंटरनेट नहीं होता तो बिटकॉइन नहीं होता।

जैसे हम Paytm में एक वॉलेट से दूसरे वॉलेट में पैसा ट्रांसफर करते है ऐसे ही बिटकॉइन एक Virtual Form है। मतलब इसे हम अपने हाथो से छू नहीं सकते ना ही कभी आपको Physically देखने को मिलेगा। ये एक Virtual मुद्रा है आपको मै ये एक छोटे से Example से समझाता हु।

मान लीजिये मैं बाजार से एक पत्थर उठा के लाया और आपको बोलता हु की इस पत्थर की कीमत आज के टाइम में 20 रूपए है तो आप बोलोगे के भाई में नहीं मानता की इस की कीमत 20 रूपए है लेकिन अगर 100 लोग आकर आपको बोलते है की इसकी कीमत 200रूपए ही है तो आपको भी मानना पड़ेगा यही सेम चीज बिटकॉइन में हुई है।

जब 2009 में ये बना था इसकी कोई Value थी। क्योकि ये Physically form नहीं है ना ही किसी को पता है की इसकी क्या वैल्यू है। लेकिन धीरे धीरे लोगो ने मानना start कर दिया।

बिटकॉइन किसने बनाया

बिटकॉइन एक अवधारणा का पहला कार्यान्वयन है जिसे “क्रिप्टोक्यूरेंसी” कहा जाता है, जिसे पहली बार 1998 में वेई दाई द्वारा साइबरपॉन्क्स मेलिंग सूची में वर्णित किया गया था, जो पैसे के एक नए रूप के विचार का सुझाव देता है जो क्रिप्टोग्राफी का उपयोग करके इसके निर्माण और लेनदेन को नियंत्रित करता है, बजाय केन्द्रीय अधिकार या प्रमुख अधिकार। पहला बिटकॉइन विनिर्देश और अवधारणा का प्रमाण 2009 में सातोशी नाकामोटो द्वारा एक क्रिप्टोग्राफी मेलिंग सूची में प्रकाशित किया गया था। सतोशी ने 2010 के अंत में अपने बारे में ज्यादा खुलासा किए बिना इस परियोजना को छोड़ दिया। तब से समुदाय बिटकॉइन पर काम करने वाले कई डेवलपर्स के साथ तेजी से बढ़ा है।

सातोशी की गुमनामी ने अक्सर अनुचित चिंताएं पैदा कीं, जिनमें से कई बिटकॉइन के खुले स्रोत की गलतफहमी से जुड़ी हैं। बिटकॉइन प्रोटोकॉल और सॉफ्टवेयर को खुले तौर पर प्रकाशित किया जाता है और दुनिया भर में कोई भी डेवलपर कोड की समीक्षा कर सकता है या बिटकॉइन सॉफ्टवेयर का अपना संशोधित संस्करण बना सकता है। वर्तमान डेवलपर्स की तरह, सतोशी का प्रभाव दूसरों द्वारा अपनाए जा रहे बदलावों तक ही सीमित था और इसलिए उन्होंने बिटकॉइन को नियंत्रित नहीं किया। जैसे, बिटकॉइन के आविष्कारक की पहचान शायद आज उतनी ही प्रासंगिक है जितनी उस व्यक्ति की पहचान है जिसने कागज का आविष्कार किया था।

यह भी पढ़े :- 

  1. ऑपरेटिंग सिस्टम क्या होता है?
  2. बिटकॉइन क्या होता है ?
  3. वर्चुअल मशीन क्या होती है ?

क्या बिटकॉइन सिक्योर है ?

यदि आप बिटकॉइन का ट्रांजक्शन करते हैं मतलब की किसी दूसरे व्यक्ति को बिटकॉइन ट्रांसफर करते करते हैं। तो यह सारे डाटा को encrypt कर देता है, यह blockchain technology के कारन संभव हो पाया है। इसमें ब्लॉकचैन कुछ वालंटियर्स की सहायता लेता है जिसमे से कुछ ट्रांसक्शन्स को एन्क्रिप्ट करने का कार्य करते हैं। वो साथ ही ये भी देखते हैं की यूजर का सारा पर्सनल देता हैकर्स से सुरक्षित रहे .

बिटकॉइन के दुनिया भर में बहुत से सर्वर हैं, और सिस्टम पर होने वाले सभी लेन-देन पर नज़र रखते हुए दस हजार से अधिक नोड्स हैं। और यह सिक्योरिटी के लिए महत्वपूर्ण भी है, क्योंकि इसका मतलब है कि अगर सर्वर या नोड्स में से किसी एक को भी कुछ होता है , तो अन्य नोड द्वारा इसे कण्ट्रोल किया जाता हैं। इसका मतलब यह हुआ कि सर्वर में से एक नोड को भी यदि कोई हैकर हैक कर भी लेता है तो उसकी हैक करने की सारी कोशिश बेकार है। क्योकि वहाँ पर ऐसा कुछ भी नहीं है कि जो हैकर चोरी करके अन्य नोड्स और सर्वर की पहुंच से रोक पाए , जब तक कि हैकर 51% नोड्स को नियंत्रित नहीं कर लेता है । यह करना असंभव तो नहीं, लेकिन बहुत ही असंभावित स्थिति है। इसलिए बिटकॉइन को सिक्योर कहा जाता हैं।

उम्मीद करते है आपको हमारा यह ब्लॉग “bitcoin hindi meaning ” जरूर पसंद आया होगा ? अगर आपका कोई प्रश्न हो तो कमेंट करे। 

धन्यवाद।

1 thought on “क्या होता है बिटकॉइन ? bitcoin hindi meaning?”

  1. Sultan singh

    Bitcoin के बारे में बहुत ही बढ़िया जानकारी शेयर करे हो

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *