GPS क्या है और यह कैसे काम करता हैं? gps full form in hindi

gps full form in hindi

हेलो दोस्तों इस पोस्ट में आपको gps के बारे में जानकारी मिलेगी की जीपीएस क्या होता है। जीपीएस का पूरा नाम(gps full form in hindi). हमें यदि किसी कारणवश कही जाना होता है और यदि वहा का रास्ता मालूम नहीं होने पर हमें गूगल मैप इस्तेमाल करना पड़ जाता है। क्या अपने कभी सोचा है की ये गूगल मैप आखिर काम कैसे करता है तो दोस्तों ये सम्भव हो पाया है जीपीएस की वजह से। जीपीएस अगर काम करना बंद कर दे तो हम गूगल मैप का यूज़ नहीं कर पाएंगे या गूगल मैप हमें जानकारी नहीं दे पायेगा।

तो अब हमें जीपीएस की उपयोगिता समझ में आ गई है तो अब हम अपने मुख्य बिंदु की तरफ चलते है की आखिर ये जीपीएस है क्या।

GPS क्या है – GPS Full Form in Hindi

GPS का पूरा नाम ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम है। यह एक Satellite- Based नेविगेशन प्रणाली है, जो अमेरिकी रक्षा विभाग द्वारा पृथ्वी की कक्षा में रखे गए 24 Satellites के एक network से बना है। यह मूल रूप से अमेरिकी सरकार ने इसे सेना के लिए बनवाया था , लेकिन 1980 के दशक में सरकार ने इस नेविगेशन प्रणाली को नागरिक उपयोग के लिए उपलब्ध कराया।

अब कोई भी व्यक्ति जिसके पास जीपीएस डिवाइस हो,जैसे की एक मोबाइल फोन या हाथ में किसी प्रकार का जीपीएस यूनिट हो, जो Setellite प्रसारित रेडियो सिग्नल प्राप्त कर सकते हैं।

इसका प्रयोग किसी भी मौसम की स्थिति में, दुनिया में कहीं भी, 24 घंटे काम करता है। GPS का उपयोग करने के लिए किसी भी प्रकार का कोई सदस्यता शुल्क या सेटअप शुल्क नहीं लिया जाता हैं।

जीपीएस रिसीवर वाले किसी भी व्यक्ति के लिए स्वतंत्र रूप से सुलभ है।

यह 20,000 किलोमीटर की ऊंचाई पर पृथ्वी की परिक्रमा करने वाले लगभग 30 उपग्रहों का एक नेटवर्क है। इस प्रणाली को मूल रूप से अमेरिकी सरकार द्वारा सैन्य नेविगेशन के लिए विकसित किया गया था, लेकिन अब कोई भी जीपीएस डिवाइस के साथ हो, यह एक मोबाइल फोन या हाथ में जीपीएस यूनिट हो, जो Setellite प्रसारित रेडियो सिग्नल प्राप्त कर सकते हैं।

यह भी पढ़े :- 

  1. ऑपरेटिंग सिस्टम क्या होता है?
  2. बिटकॉइन क्या होता है ?
  3. वर्चुअल मशीन क्या होती है ?

जीपीएस के उपयोग – uses of gps

  1. अपनी स्थिति का पता लगाना – अगर आपको लगता हैं की आप किसी स्थान पर खो गए हैं तो आप जीपीएस के प्रयोग से अपनी सही स्थिति का पता कर सकते हैं
  2. सर्वे – जीपीएस का उपयोग बड़ी बड़ी कम्पनियां समय और पैसा बचने में भी करती हैं. क्युकी इसके माध्यम से किसी स्थान के हाइवेज, पावर लाइन्स, फसल मिट्टी का प्रकार आदि के बारे में जानकारी प्राप्त की जा सकती हैं।
  3. पालतू जानवरो का पता लगाने में – आप जीपीएस की माइक्रो चिप को जानवरो की त्वचा में एम्बेड करके उनको ट्रेस किया जा सकता हैं।
  4. दुर्घटना के समय – अगर आपके आस पास किसी प्रकार की कोई दुर्घटना घटित हो जाती है जैसे की कही पर आग लग जाती है तो आप अपने स्थान का विवरण दिए बिना भी अपनीं जीपीएस लोकेशन को शेयर करके उस विभाग को सूचित कर सकते हैं।

जीपीएस काम कैसे करता है ? How gps work

जब भी आप किसी भी जगह पर होते हैं, उस समय कम से कम चार जीपीएस Setellite उस जगह को केंद्रित कर रहे होते हैं मतलब की उन setelites का केंद्र होते हैं आप । हर एक अपनी स्थिति और वर्तमान समय के बारे में जानकारी नियमित अंतराल पर प्रसारित करता है। प्रकाश की गति से यात्रा करने वाले ये सिग्नल आपके जीपीएस रिसीवर द्वारा प्राप्त किए जाते हैं, जो यह गणना करता है कि संदेशों के आने में कितना समय लगा है, और आपकी वर्तमान स्थिति क्या हैं यह प्रत्येक उपग्रह से कितनी दूर है।

जब यह जानकारी हो जाती है कि कम से कम तीन उपग्रह आपसे कितने दूर हैं, तो आपका जीपीएस रिसीवर एक प्रक्रिया का उपयोग करके आपके स्थान को इंगित कर सकता है जिसे ट्रिलाटरेशन (Trilateration ) कहा जाता है। और यह आपकी वर्तमान स्थिति को गूगल मैप आदि में दर्शा देता हैं

धन्यवाद।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *