Atm full form ?एटीएम का फुल फॉर्म क्या है ?

atm full form

इस ब्लॉग में आप जानेंगे कि ATM क्या है(What is ATM in Hindi). ATM कितने प्रकार के होते हैं(Types of ATM in Hindi), ATM कैसे काम करता है(How does the ATM work), ATM का फुल फॉर्म(Full form of ATM in Hindi),ATM के हिस्से(Parts of ATM in Hindi), ATM कैसे काम करता हे(How ATM works).

ATM क्या है (What is ATM in Hindi)

आप सभी अपने daily life में ATM का इस्तमाल करते ही होंगे। जैसे की कभी आपको अगर पैसे निकालने हो या फिर किसी को भेजने हो तब जरुर आप ATM का इस्तमाल करते होंगे। लेकिन आप इस ब्लॉग में बहुत कुछ और जानेगे ATM के बारे मे।

ATM एक विशेष कंप्यूटर है जो आपके पैसे का प्रबंधन करने के लिए convenient बनाता है। कुछ ATM में, आप एक स्टेटमेंट (अपनी खाता activity या transaction का रिकॉर्ड) प्रिंट कर सकते हैं; अपने खाते की शेष राशि (अभी आपके खातों में धन की राशि) की जाँच कर सकते हैं; अपने खातों के बीच धन transfer कर सकते हैं। आप आमतौर पर अपने स्वयं के बैंक द्वारा operated ATM में सबसे अधिक सेवाओं का उपयोग कर सकते हैं।

एटीएम का पूरा नाम क्या है(Atm full form)

क्या आप जानते है की ATM का पूरा नाम क्या है(full form of ATM). ये जानना हम सबके लिए बहुत ही जरूरी हैं क्योकि ये सवाल अक्सर बहुत से competitive परीक्षाओं मैं पूछा जाता हैं। इस ब्लॉग में आप पढ़ेंगे की ATM का पूरा नाम क्या हैं और अलग अलग जगह पे ATM का पूरा नाम क्या है। हम में से बहुत लोग सोचते है कि ATM का full फॉर्म Any time money होगा लेकिन यह सही नहीं हैं।

ATM का full फॉर्म Automated Teller Machine है। A Automated T — Teller M — Machine

ATM का full फॉर्म स्वचालित टेलर मशीन है(Full form of ATM in Hindi)

ए — स्वचालित टी — टेलर म — मशीन

ATM के दूसरे फुल फॉर्म(atm full form)

चलिए अब ATM के कुछ अन्य full form के बारे मे जानते हैं।

  1. Asynchronous Transfer Mode.
  2. Association of Teachers of Mathematics
  3. Air traffic management
  4. Angkatan Tentera Malaysia

ATM कैसे काम करता हैं(How ATM works)

ATM का कामकाज शुरू करने के लिए, आपको ATM मशीनों के अंदर plastic ATM card डालने होंगे। कुछ मशीनों में आपको अपने card drop करने पड़ते हैं, कुछ मशीनें कार्ड swap करने की अनुमति देती हैं। ATM कार्ड में एक magnetic strip के रूप में आपके खाते का security और अन्य सुरक्षा जानकारी होती है।

जब आप अपना कार्ड drop / swap करते हैं, तो मशीन को आपके खाते की जानकारी मिल जाती है और वह आपका pin no. मांगता है। सफल authentication के बाद, मशीन financial transactions की अनुमति देगा।

पार्ट्स ऑफ़ ATM(Parts of ATM in Hindi)

ATM केवल 2 input और 4 output डिवाइस के साथ एक data terminal है। किसी भी अन्य data terminal की तरह, ATM को host processor के माध्यम से कनेक्ट और संचार करना पड़ता है। यह लोगों को आसानी से पैसे निकालने या जमा करने में सक्षम बनाने के लिए विभिन्न input और output device पेश करता है।

Input Devices:

Card Reader: यह input device कार्ड के डेटा को पढ़ता है जो ATM card के पीछे की तरफ magnetic strip में संग्रहीत होता है। जब कार्ड को swap किया जाता है या दिए गए स्थान में डाला जाता है तो card reader खाता विवरण captures करता है और इसे server में भेजता है। Keypad: यह user को मशीन द्वारा पूछी गई जानकारी जैसे personal identification number, amount of cash, receipt आवश्यकता या नहीं, आदि प्रदान करने में मदद करता है। Pin no. को encrypted  रूप में सर्वर पर भेजा जाता है।

Output Devices:

Cash Dispenser: यह ATM का मुख्य output device है क्योंकि यह नकदी को फैलाता है। ATM में प्रदान किए गए उच्च precision सेंसर कैश dispenser को उपयोगकर्ता द्वारा आवश्यक नकदी की सही मात्रा को निकालने की अनुमति देते हैं। Receipt Printer: यह आपको उस पर receipt लेनदेन के विवरण के साथ रसीद प्रदान करता है। यह आपको लेनदेन की तारीख और समय , withdrawal amount, balance,आदि बताता है। Display Screen: यह स्क्रीन पर लेनदेन से संबंधित जानकारी प्रदर्शित करता है। यह अनुक्रम में एक-एक करके नकदी निकासी के चरणों को दर्शाता है। यह एक CRT स्क्रीन या एक LED स्क्रीन हो सकती है। Speaker: यह ATM में प्रदान किया जाता है जब एक कुंजी दबाए जाने पर audio feedback का उत्पादन होता है।

ATM के प्रकार(Types of ATM)

चलिए अब पढ़ते है ATM के कितने तरह के प्रकार होते हैं।

  • White Label ATMs : White Label एटीएम वे एटीएम होते हैं जो गैर-बैंक entities द्वारा स्थापित, owned और operated होते हैं। देश में financial inclusion और एटीएम पैठ में सहायता के लिए भारतीय Reserve Bank of India लेबल वाले ATM (डब्ल्यूएलए) शुरू करने की अनुमति दी है।
  • Brown Label ATMs : ये ATM सेवा प्रदाता द्वारा owned and maintained करते हैं जबकि एक प्रायोजक बैंक जिसका ब्रांड एटीएम पर उपयोग किया जाता है, नकदी प्रबंधन और network connectivity का ध्यान रखता है।
  • Offsite ATMs : ये ऐसी मशीनें हैं जो standalone आधार पर स्थापित की जाती हैं। इसका मतलब यह है कि बैंक में एक जगह होती है जहां केवल एक ATM मशीन होती है तब यह एक offsite एटीएम बन जाता है।
  • Onsite ATMs : ये ATM मशीनें हैं जो premises में स्थापित की जाती हैं जहां एक बैंक शाखा होती है ताकि physical शाखा और एटीएम दोनों का उपयोग किया जा सके। यह साइट पर होने के रूप में जाना जाता है और इसका उपयोग several purposes के लिए किया जा सकता है।
  • Green Label ATMs : एटीएम Agricultural Transaction के लिए प्रदान किया जाता है।
  • Orange Label ATMs : Share Transactions के लिए प्रदान किया गया है।
  • Yellow Label ATMs : E-commerce के लिए प्रदान किया गया है।
  • Pink Label ATMs : ऐसे ATM की निगरानी guard करते हैं जो यह ensure करते हैं कि केवल महिलाएं ही इन एटीएम तक पहुंचें। ऐसे ATM का एकमात्र उद्देश्य ATM की लंबी कतारों में खड़ी महिलाओं की समस्या को कम करना है।
  • Biometric ATMs: ATM जो बैंक विवरण का उपयोग करने के लिए ग्राहक की fingerprint scanner और eye scanner जैसी सुरक्षा सुविधाओं का उपयोग करता है।

ATM के बारे में रोचक तथ्य(interesting facts).

चलिए अब पढ़ते है ATM के कुछ रोचक तथ्य के बारे मे जो आपने सायद ही कभी सुना होगा।

  1. ATM का आविष्कार: ATM का निर्माण John Shepherd Barron ने किया था।
  2. पहला ATM : नकदी निकालने का पहला ATM 27 जून, 1967 को लंदन के Barclays Bank  में लगाया गया था।
  3. ATM से सोना निकाला : ATM से सिर्फ पैसे ही नहीं बल्कि सोना भी निकाला जा सकता है। पहली gold plate निकालने की मशीन अमीरात Emirates Palace Hotel, Abu Dhabi की लॉबी में स्थापित की गई थी।
  4. ATM का पिन नंबर : John Shepherd Barron 6 अंकों वाले ATM पिन नंबर को रखना चाहते थे, लेकिन उनकी पत्नी Carolyn को 6 अंक याद नहीं थे। इसलिए, उन्होंने 4 अंकों का ATM पिन नंबर तैयार किया।
  5. भारत में पहला ATM : भारत में पहली बार, ATM की सेवा 1987 में शुरू की गई थी। सबसे पहले, Hong Kong और Shanghai banking Corporation (HSBC) ने मुंबई में ATM मशीन स्थापित की थी।
  6. बिना खाते के ATM : यूरोपीय देश Romania में बैंक खाते के बिना ATM का उपयोग किया जा सकता है। हालांकि, India सहित कई देशों में ऐसी सुविधाएं उपलब्ध नहीं हैं।
  7. दुनिया का पहला floating ATM : पहला तैरता हुआ ATM Kochi, Kerala में स्थापित किया गया था। यह ATM मशीन State Bank of India द्वारा स्थापित की गई थी।
  8. Biometric ATM : Brazil में, Biometric एटीएम का उपयोग बैंकिंग लेनदेन and password को सुरक्षित बनाने के लिए किया जाता है। उपयोगकर्ता को सबसे पहले इन ATM में उंगलियों को scan करना होगा।

ATM का इतिहास(History of ATM)

ATM ने जून 1967 में उत्तरी London में Barclays’ Enfield Town branch में अपनी शुरुआत की। इसका आविष्कार British आविष्कारक John Shepherd-Barron को दिया जाता है। कहानी यह है कि Mr Shepherd-Barron ने चॉकलेट बार बेचने वाली vending मशीनों को देखा और पूछा कि एक समान मशीन का उपयोग नकदी निकालने के लिए क्यों नहीं किया जा सकता है।

धन्यवाद!

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *